Mata Pita ka samman माता पिता का सम्मान करने के 35 तरीके

हम धर्म को बचाने की बात करते हैं । संस्कारों की बात करते हैं। संस्कृति की रक्षा करने की मांग करते हैं। देश की सुरक्षा की बात करते हैं, पर क्या कभी घर के एक कोने में बैठे माता पिता की बात करते हैं ? वे माता पिता जिन्होंने हमें जीवन दिया । जीने का तरीका सिखाया । सम्मान पूर्वक जीवन यापन करने के योग्य बनाया । जिन्होंने सब कुछ दिया उनको हम भूल गए हैं और आंखों पर पट्टी बांध कर घर के बाहर समाज , धर्म और देश के तथाकथित ठेकेदारों को महत्व दे रहे हैं। इस आलेख में हम भगवान स्वरूप माता पिता की चर्चा करेंगे और उनके समान के तरीके जानेंगे । Mata Pita ka samman karne ke tarike .

माता-पिता की सेवा कैसे करे  Mata Pita ka samman karne ke tarike

Mata Pita ka samman 1

1. उनकी उपस्थिति में अपने फोन को दूर रखो.
2. वे क्या कह रहे हैं इस पर ध्यान दो.
3. उनकी राय स्वीकारें.
4. उनकी बातचीत में सम्मिलित हों.
5. उन्हें सम्मान के साथ देखें.
6. हमेशा उनकी प्रशंसा करें.
7. उनको अच्छा समाचार जरूर बताएँ.
8. उनके साथ बुरा समाचार साझा करने से बचें.
9. उनके दोस्तों और प्रियजनों से अच्छी तरह से बोलें.
10. उनके द्वारा किये गए अच्छे काम सदैव याद रखें.
11. वे यदि एक ही कहानी दोहरायें तो भी ऐसे सुनें जैसे पहली बार सुन रहे हो.
12. अतीत की दर्दनाक यादों को मत दोहरायें.
13. उनकी उपस्थिति में कानाफ़ूसी न करें.
14. उनके साथ तमीज़ से बैठें.
15. उनके विचारों को न तो घटिया बताये न ही उनकी आलोचना करें.
Mata Pita ka samman 2
16. उनकी बात काटने से बचें.
17. उनकी उम्र का सम्मान करें.
18. उनके आसपास उनके पोते/पोतियों को अनुशासित करने अथवा मारने से बचें.
19. उनकी सलाह और निर्देश स्वीकारें.
20. उनका नेतृत्व स्वीकार करें.
21. उनके साथ ऊँची आवाज़ में बात न करें.
22. उनके आगे अथवा सामने से न चलें.
23. उनसे पहले खाने से बचें.
24. उन्हें घूरें नहीं.
25. उन्हें तब भी गौरवान्वित प्रतीत करायें जब कि वे अपने को इसके लायक न समझें.
26. उनके सामने अपने पैर करके या उनकी ओर अपनी पीठ कर के बैठने से बचें.
27. न तो उनकी बुराई करें और न ही किसी अन्य द्वारा की गई उनकी बुराई का वर्णन करें.
28. उन्हें अपनी प्रार्थनाओं में शामिल करें.
29. उनकी उपस्थिति में ऊबने या अपनी थकान का प्रदर्शन न करें.
30. उनकी गलतियों अथवा अनभिज्ञता पर हँसने से बचें.
31. कहने से पहले उनके काम करें.
32. नियमित रूप से उनके पास जायें.
33. उनके साथ वार्तालाप में अपने शब्दों को ध्यान से चुनें.
34. उन्हें उसी सम्बोधन से सम्मानित करें जो वे पसन्द करते हैं.
35. अपने किसी भी विषय की अपेक्षा उन्हें प्राथमिकता दें…!!!
माता – पिता इस दुनिया में सबसे बड़ा खज़ाना हैं..!! यह मेसेज हर घर तक पहुंचने मे मदद करे तो बड़ी कृपा होगी मानव जाति का उद्धार संभव हैं, यदि ऊपर लिखी बातों को जीवन में उतार लिया तो। सबसे पहले भगवान, गुरु माता पिता ही हैं, हर धर्म में इस बात का उल्लेख है …!!!
सभी के माता पिता को नमन.
Mata Pita ka samman karne ke tarike by Agyat
इस आलेख ने आपके विचारों में सकारात्मक बदलाव की भूमिका बनाई. इस बदलाव को स्थाई बनाने के लिए पढ़े यह article hare
Spread the love

Leave a Reply