सूर्य का गोचर : 14 मार्च से होगा मीन राशि में प्रवेश

सुर्य का गोचर
 सुर्य का मीन राशि मे गोचर 14 मार्च -14 अप्रैल, 2021
सूर्य का कुंडली में प्रभाव
यदि आपकी राशि में सूर्य अच्छी स्थिति में विराजमान है तो जीवन में आपको मनवांछित फलों की प्राप्ति होती है। सूर्य की अच्छी स्थिति आपको अच्छे कामों को करने की तरफ प्रेरित करती है। ऐसे जातकों को खुद पर पूरा नियंत्रण होता है। अगर किसी जातक की कुंडली में सूर्य बली है तो उसके मन में सकारात्मक विचार आते हैं और जीवन के प्रति उसका नज़रिया सकारात्मक होता है। वहीं अगर किसी कुंडली में सूर्य की स्थिति अच्छी न हो तो इसके बुरे प्रभाव आपको परेशान कर सकते हैं।
मेरे गुरूदेव, ज्योतिष विशारद, माँ भगवती के उपासक, सावत्थीतीर्थ सर्जक तपागच्छाचार्य आचार्य. श्री. जिनचन्द्रसूरीश्र्वरजी म सा  के सूक्ष्म अवलोकन, अध्ययन, मनन. चिंतन के बाद की संक्षिप्त जानकारी गुरुदेव कि आज्ञा से  में मुनि अजितचन्द्र विजयजी फलादेश प्रस्तुत  वैदिक ज्योतिष के अनुसार सूर्य आत्मा, पिता, पूर्वज, राज्य सम्मान, नेत्र और राजनीति आदि का कारक है। सूर्य के शुभ प्रभाव से विभिन्न कार्यक्षेत्र में उच्च पद की प्राप्ति होती है। इसके साथ ही सामाजिक और राजनीतिक क्षेत्र में भी मान-सम्मान मिलता है।
वहीं दूसरी तरफ यदि कुंडली पर सूर्य का अशुभ प्रभाव हो तो जातक को आँख संबंधी समस्या का योग, पिता को कष्ट और पितृ दोष की स्थिति बनती है। इसलिए जन्म कुंडली में सूर्य से संबंधित किसी भी परेशानी के समाधान के लिए ज्योतिष विशेषज्ञ सूर्य ग्रह से जुड़े विभिन्न उपाय अपनाने की सलाह देते है। सूर्य के गोचर के दौरान जातक को कैसा फल प्राप्त होगा, यह केवल और केवल इस बात पर निर्भर करता है कि उस गोचर के दौरान सूर्य एक कुंडली या राशि से किस भाव में संचरण कर रहा है। क्योंकि सभी 12 भावों में सूर्य के गोचर का परिणाम अलग-अलग होता है। समस्त संसार को उत्तम आरोग्य और जीवन प्रदान करने वाले हैं.

सूर्य बनाता है आपको राजा

आत्मा , पिता, पूर्वज, उच्च पद-प्रतिष्ठा, सम्मान आदि के कारक, सूर्य का मीन राशि में गोचर 14 मार्च, रविवार को शाम 05 बज-कर 55 मिनट पर होगा, जब सूर्य देव अपने मित्र बृहस्पति के स्वामित्व वाली मीन राशि में प्रवेश करेंगे। यह एक जल तत्व की राशि है। इस प्रकार एक अग्नि तत्व प्रधान सूर्य ग्रह का प्रवेश जल तत्व प्रधान राशि में होगा।
सूर्य के गोचर काल के दौरान सभी राशि के जातकों को अलग-अलग फल मिलेंगे। सूर्य आत्मा का कारक ग्रह है और यह आपकी नेतृत्व क्षमता, प्रशासनिक क्षमता, पिता आदि का कारक है। यदि कुंडली में सूर्य मजबूत अवस्था में है तो ऐसा व्यक्ति राजा की तरह जिंदगी जीता है, वहीं जिस जातक की कुंडली में यह अच्छी अवस्था मे नहीं होता उसे जीवन में कई परेशानियों का सामना करना पड़ सकता है। सूर्य के इस राशि परिवर्तन का प्रभाव सभी राशियों पर होगा। आईये इस भविष्यफल के माध्यम से जानते हैं समस्त 12 राशियों पर सूर्य के  गोचर का क्या प्रभाव पड़ने वाला है।

मेष :- अ, ल, इ : 

ज्योतिष विशारद आचार्य. श्री. जिनचन्द्रसूरीश्र्वरजी म सा  कहते हे सूर्य कुंभ राशि से मीन राशि में गोचर के दौरान मेष राशि के जातकों के लिए बारहवें भाव में प्रवेश कर जायेगा। ऐसे में सूर्य का यह पारगमन आपके जीवन के कई पहलुओं के संबंध में कई महत्वपूर्ण बदलाव लेकर आने वाला साबित होगा।
सूर्य के इस गोचर के प्रभाव से मेष राशि के कुछ जातक अपने आत्मविश्वास में कमी महसूस कर सकते हैं, जिसका प्रभाव सीधे तौर पर आपकी काम करने की शक्ति पर पड़ेगा। जिसके परिणामस्वरूप इस समय अवधि में आप कार्यक्षेत्र पर अपनी सामर्थ्य के अनुसार काम नहीं कर पाएंगे। हालाँकि वहीं दूसरी तरफ मेष राशि के कुछ जातकों को इस दौरान उनके व्यवसाय और पेशेवर अवसरों के चलते विदेश यात्रा का मौका मिल सकता है। इसके अलावा विदेशी कम्पनीयों में काम करने वाले जातकों को इस गोचर के प्रभाव से लाभ मिलने की भी संभावना है। जैसा कि सूर्य दुश्मनों के छठे घर से सीधे तौर पर जुड़ा हुआ है, ऐसे में आप इस पारगमन के दौरान अपने दुश्मनों को आसानी से मात दे सकेंगे, या उनपर हावी हो सकेंगे। हाँ लेकिन अगर कोई भी कानूनी मामले हैं तो उन्हें इस गोचर के दौरान स्थगित करने की सलाह दी जाती है, गोचर के बाद ही आप उनसे जुड़ा कोई कदम उठाएं तो बेहतर रहेगा। जॉब कर रहे जातकों को इस पारगमन के दौरान स्थानांतरण जैसी कुछ परिस्थितियों का सामना कर सकते हैं।
व्यवसायी जातकों को इस समय अवधि के दौरान नुकसान उठाना पड़ सकता है, ऐसे में अगर आप कोई निवेश करने के बारे में सोच रहे हैं तो, स्थिति के उचित चिंतन के बाद या विशेषज्ञों से इस बारे में सलाह लेने के बाद ही कोई निर्णय लेना आपके लिए फ़ायदेमंद साबित होगा।
व्यक्तिगत मोर्चे की बात करें तो, वो माता-पिता जो उच्च शिक्षा के लिए अपने बच्चों को विदेश भेजने की चाह रखते हैं, इस समय अवधि के दौरान उनका ये सपना पूरा हो सकता है। हालाँकि वहीं प्यार और रोमांस की बात करें तो शादीशुदा जातकों और प्यार में पड़े जातकों, सभी को इस दौरान रिश्तों में कुछ उतार-चढ़ाव का सामना करना पड़ सकता है। ऐसा इसलिए भी हो सकता है कि आपके पार्टनर का स्वास्थ्य इस समय नाज़ुक बना रहने वाला है, या फिर इस वजह से भी कि इस समय आपके पार्टनर के दूसरे शहर या देश में जाना पड़ सकता है।
ख़र्चे करते समय विशेष ध्यान रखने की सलाह दी जाती है, अन्यथा कुछ अनावश्यक ख़र्चे आपकी आर्थिक स्थिति पर सेंध लगाने वाले साबित होंगे। स्वास्थ्य की बात करें तो, इस दौरान आपको नींद की समस्या, सिरदर्द या फिर तेज़ बुखार का सामना करना पड़ सकता है। इसलिए स्वास्थ्य का ख़ास ख्याल रखने की सलाह आपको दी जाती है।

वृषभ :- ब, व, उ :

माँ भगवती के उपासक आचार्य. श्री. जिनचन्द्रसूरीश्र्वरजी म सा कहते हे   वृषभ राशि के जातकों के लिए कुंभ राशि से मीन राशि में सूर्य का यह गोचर उनके लाभ और सफलता के अपने ग्यारहवें घर में होने जा रहा है। सूर्य का यह गोचर वृषभ राशि के जातकों के लिए शुभ परिणाम लेकर आएगा।
व्यावसायिक रूप से, यह समय आपके लिए अनुकूल परिणाम लेकर आने वाला साबित होगा, क्योंकि इस दौरान आप कई जगहों और विकल्पों से मुनाफ़ा कमाएंगे। जिसके परिणामस्वरूप समाज में आपका मान सम्मान भी बढ़ेगा। इसके अलावा आप इस दौरान कई नए ऐसे रिश्ते या संपर्क बनाने में कामयाब रहेंगे जिनसे भविष्य में भी आपको लाभ मिलेगा। लंबे समय से रुका हुआ आपका कोई प्रोजेक्ट इस समय दोबारा शुरू हो सकता है। जिससे आपको लाभ भी मिलेगा, आपके आत्म-विश्वास में भी बढ़ोतरी कराएगा। इस समय अवधि में आपके वरिष्ठों के साथ आपके संबंध सौहार्दपूर्ण बने रहेंगे और आपको उनसे पूरा सहयोग मिल सकता है। इस गोचर के दौरान आपके दिमाग में नए-नए और अनोखे आइडिया उत्पन्न होंगे, जो आपको आपके कार्यक्षेत्र में खूब तारीफ दिलाएंगे। इसके अलावा सूर्य के इस गोचर के दौरान कई वृषभ जातकों को सरकार और प्रशासन से कुछ लाभ मिलने की संभावनाएं हैं।
व्यक्तिगत मोर्चे की बात करें तो, इस समय विवाहित जातक अपने बच्चों की सफलता देखकर बेहद ही खुश रहने वाले हैं। इसके अलावा प्यार में पड़े जातकों के लिए भी यह समय अनुकूल रहने वाला है क्योंकि इस दौरान आप और आपके पार्टनर अपने रिश्ते में में सहजता महसूस करेंगे। जैसा कि सूर्य आपके चौथे घर का स्वामी है और इस दौरान आपके ग्यारहवें घर में स्थित रहने वाला है, जो बताता है कि इस समय अवधि के दौरान अचल संपत्ति की खरीद या मुनाफ़े की प्रबल संभावना है। इसके अलावा यह अवधि नए निवेश करने के लिए भी बहुत अच्छी साबित हो सकती है।
कुल मिलाकर सूर्य का यह गोचर वृषभ राशि के जातकों के लिए जीवन के हर मोर्चे पर शुभ परिणाम ही लेकर आयेगा। सूर्य का यह गोचर आपको सभी वांछित परिणाम प्रदान करने वाला साबित होगा।

मिथुन :-  क, छ, घ :

मंत्र वेत्ता आचार्य. श्री. जिनचन्द्रसूरीश्र्वरजी म सा कहते हे मिथुन राशि के जातक इस समय के दौरान अपने प्रयासों को सही दिशा में जाते हुए देख सकेंगे क्योंकि, सूर्य जो उनके प्रयास के तीसरे घर का नियंत्रण करता है, कुंभ राशि से मीन राशि में अपने राशि परिवर्तन के दौरान अपने दसवें घर जिसे कार्रवाई, कैरियर और पेशे का घर माना जाता है, के माध्यम से गोचर करने वाला है।
व्यावसायिक रूप से, मिथुन राशि के जातकों के लिए यह गोचर शुभ परिणाम लेकर आने वाला साबित होगा, क्योंकि इस अवधि में सूर्य अपनी “दिगबल ताकत” और इस गोचर के दौरान बेहद ही शक्तिशाली रहने वाला है। इस समय आप जो भी काम या प्रोजेक्ट अपने हाथ में लेंगे उसे आप अच्छी तरह से पूरा करने में कामयाब रहेंगे, जिसके परिणामस्वरूप कार्यक्षेत्र में आपका सम्मान में बढ़ेगा और साथ ही आपको उच्च पद भी काबिज़ करने में मददगार साबित होने वाला है। आपको आपके कार्यस्थल पर मान्यता, सम्मान, पदोन्नति और इस अवधि में आपको अपने वरिष्ठों का साथ भी भरपूर मिलेगा।
मिथुन राशि के वो जातक जो सरकारी नौकरी के क्षेत्र से जुड़े हैं उन्हें भी इस समय के दौरान लाभ मिलने की संभावना है। इसके अलावा पब्लिक डीलिंग के क्षेत्र से जुड़े इस राशि के जातक या फिर, संचार के क्षेत्र से जुड़े जातक जैसे, वकील, सेल्स अधिकारियों को भी इस समय अवधि में अनुकूल परिणाम मिलने की उम्मीद है। इसके अलावा, कलाकार या जो लोग अपने शौक और कौशल को पेशे में बदलना चाहते हैं, उन्हें भी यह गोचर मनोवांछित परिणाम देने वाला साबित होगा। बदलते रूझानों के अनुकूल और प्रौद्योगिकी के नए रूपों का उपयोग करने के इच्छुक व्यवसायी इस अवधि में बहुत लाभ प्राप्त करने में कामयाब रहेंगे।
व्यक्तिगत मोर्चे पर, इस समय अवधि में आपको आपके भाई-बहनों का हर काम में भरपूर समर्थन मिलेगा। इसके अलावा इस समय अवधि में आपके आपके पिता के साथ या पितातुल्य किसी इंसान के साथ संबंध मज़बूत और अच्छे बनेंगे और वो आपकी सफ़लता में भी एक महत्वपूर्ण कारक बनकर सामने आयेंगे। प्यार के लिहाज़ से भी यह समय अच्छा रहने वाला है क्योंकि इस दौरान आप अपने पार्टनर के साथ ख़ुशी और संतोष महसूस करेंगे। साथ ही इस दौरान आप किसी भी तरह से समाज के प्रति योगदान करने के लिए इच्छुक रहने वाले हैं, जो आपके सामाजिक दायरे में आपके मान-सम्मान को बढ़ाने में मदद करेगा।
स्वास्थ्य के मोर्चे पर बात करें तो, यह अवधि आपके लिए जीवन शक्ति से भरपूर रहने वाली है, जो इस अवधि में आपको किसी बीमारी या समस्या से बचाएगी।

कर्क :- ड, ह :

गुरुदेव आचार्य. श्री. जिनचन्द्रसूरीश्र्वरजी म सा कहते हे  कर्क राशि के जातकों के लिए सूर्य का कुम्भ राशि से मीन राशि में यह गोचर उनके नौवें घर में होने जा रहा है, जो भाग्य, आध्यात्मिकता, और गुरु का प्रतिनिधित्व करता है। आपके इस घर में स्थित सूर्य एक बहुत शक्तिशाली “धन योग” बना रहा है जो इस बात की तरफ इशारा करता है कि आपको इस पारगमन के दौरान कई अवसर मिलने वाले हैं, जिससे आपकी आय, संचित धन और मान-सम्मान में वृद्धि होगी। व्यावसायिक रूप से, इस दौरान आपको अपने कार्यस्थल पर कुछ प्रतिस्पर्धा का सामना भी करना पड़ सकता है, लेकिन जिस तरह के आप लगातार प्रयास और मेहनत कर रहे हैं उससे आपको उसमें विजयी होने से कोई नहीं रोक सकता है। कर्क राशि के व्यवसाय से जुड़े जातकों को सूर्य के इस गोचर के दौरान अपेक्षित परिणाम और आर्थिक स्थिरता प्राप्त होने की भी संभावना है। जैसा कि सूर्य, गुरु और आदर्शों का भी प्रतिनिधित्व करता है ऐसे में इस समय अवधि के दौरान किसी प्रतिष्ठित इंसान से आपकी मुलाकात होने की संभावना बनती नज़र आ रही है, जो आपके जीवन में एक नया आयाम प्रदान करेगा और आपको सफल होने के लिए आवश्यक प्रेरणा भी देने वाले साबित होंगे।
व्यक्तिगत मोर्चे के लिहाज़ से बात की जाये तो, इस समय के दौरान आपको अपने परिवार के सदस्यों का पूरा समर्थन और स्नेह मिलेगा, इसके अलावा आप इस गोचर के दौरान उनके साथ किसी आध्यात्मिक यात्रा पर भी जाने का प्लान बना सकते हैं। इसके साथ ही इस गोचर की अवधि के दौरान आप धार्मिक गतिविधियों में खुद का रुझान देखेंगे, साथ ही आप इस समय किसी एनजीओ में दान-पुण्य भी कर सकते हैं, जो समाज में आपके मान-सम्मान को बढ़ाएगा। हालाँकि, जैसा कि यह पिता के दसवें घर से बारहवें घर में स्थित है, यह इंगित करता है कि इस अवधि के दौरान आपके पिता का स्वास्थ्य कमजोर रह सकता है, इसलिए उनकी उचित देखभाल करने की सलाह दी जाती है।
कुल मिलाकर देखा जाये तो ये समय कर्क राशि के जातकों के लिए बेहद शुभ समय साबित होने वाला है, जिसमें आपको लाभ और आपके मान-सम्मान में वृद्धि प्रदान करने की संभावना है।

सिंह :- म, ट :

स्पष्ट वक़्ता आचार्य. श्री. जिनचन्द्रसूरीश्र्वरजी म सा कहते हे सिंह को राजसी राशि कहा जाता है। ग्रहों के राजा सूर्य इस लग्न वालों के स्वामी होते हैं। ऐसे में सूर्य का यह गोचर सिंह राशि के आठवें घर में होने जा रहा है जिसे परिवर्तन और अचानक आये बदलाव का घर माना जाता है। माना जा रहा है कि ऐसे में सूर्य के इस गोचर का सिंह राशि के जातकों पर मिला जुला प्रभाव पड़ने वाला है।
व्यावसायिक रूप से इस गोचर के प्रभाव की बात करें तो, धीमी प्रगति, अभूतपूर्व परिवर्तन और कार्यस्थल पर आपके प्रयासों के लिए आपको वांछित परिणाम नहीं मिलना, इस दौरान आपको आत्मविश्वास की कमी, आत्म संदेह और आपके भविष्य के बारे में अनिश्चितता और चिंता को बढ़ाने का काम कर सकता है। लेकिन, जो बात यहाँ आपको समझनी होगी वो यह कि, यह समय आपको परिपक्व बनाने और आपके भविष्य के लिए एक मज़बूत नींव बनाने के लिए है, इसलिए अपनी क्षमता पर विश्वास रखें, अपने कौशल पर काम करें और आशावादी बनें रहे। आपको इसका फल अवश्य ही मिलेगा।
भाषण के दूसरे घर पर सूर्य का प्रत्यक्ष पहलू, इस दौरान आपको आपके संचार या बात करने की शैली में थोड़ा कठोर बना सकता है जिससे कार्य स्थल पर आपकी तकरार होने की उम्मीद बनती नजर आ रही है। लेकिन यहाँ आपको सलाह यही दी जाती है कि अपना धैर्य बनाये रखें अन्यथा आप गुस्से में अपने विरोधियों को कोई ऐसा मौका दे बैठेंगे जिससे वो आपकी छवि ख़राब कर सकते हैं।
इसके अलावा कोई भी यात्रा या निवेश करने के लिए भी यह समय उपयुक्त नहीं है, क्योंकि दोनों ही कामों में इस समय आपको नुकसान उठाना पड़ सकता है। इसके साथ ही कर्क राशि के व्यवसाय से जुड़े जातकों को अपने पास मौजूद संसाधनों के अनुसार ही कोई भी निर्णय लेने की सलाह दी जाती है। इस समय अवधि में पैसा कमाने के लिए कोई भी शार्टकट ना अपनाएं तो आपके लिए बेहतर होगा और साथ ही ऐसा कोई भी काम करने से बचें जो सरकार या कानून के खिलाफ हो।
व्यक्तिगत मोर्चे पर बात की जाये तो इस दौरान आपको आपके साथी का भरपूर प्यार और समर्थन मिलेगा। इसके अलावा आत्मनिरीक्षण करने के लिए भी यह समय बेहद ही शुभ साबित हो सकता है, इस दौरान आत्मनिरीक्षण करके आप अपनी ग़लतियों के बारे में और अधिक जान सकते हैं और भविष्य में उन्हें ना दोहराने से भी बच सकते हैं। आध्यात्मिक कामों में आपकी रूचि बढ़ेगी। हालाँकि, आपका स्वास्थ्य नाज़ुक रह सकता है, इसलिए कोशिश करें और विशेषतौर से इस समय अपने स्वास्थ्य के प्रति अधिक जिम्मेदार रहें, और इस अवधि के दौरान अपनी फिटनेस को बनाए रखने की ओर अपना पूरा ध्यान दें।

कन्या :- प, ठ, ण : 

सावत्थी तीर्थ सर्जक आचार्य. श्री. जिनचन्द्रसूरीश्र्वरजी म साकहते हे शाही ग्रह सूर्य, कुम्भ राशि से मीन राशि के इस परिवर्तन के दौरान, कन्या राशि के जातकों के सातवें घर में गोचर करने जा रहा है। सातवाँ घर वैवाहिक संबंधों, व्यापार साझेदारी और व्यवसाय का प्रतिनिधित्व करता है।
व्यावसायिक मोर्चे पर आपको अपने कार्यक्षेत्र पर असल में थोड़ी अधिक मेहनत करनी होगी तभी आपको मनोवांछित परिणाम की प्राप्ति होगी। हालाँकि आप में से कुछ कन्या जातकों की ना चाहते हुए भी इस दौरान उनके वरिष्ठों से किसी बात पर बहस या विवाद होने के आसार हैं जिसकी वजह से आपके कार्यक्षेत्र पर आपकी सफलता में कुछ बाधा भी आ सकती है। जो लोग साझेदारी में व्यापार कर रहे हैं उनकी भी उनके पार्टनर से किसी बात पर बहस या लड़ाई हो सकती है। इसके अलावा कोई भी नया व्यवसाय, कोई भी नया काम, या साझेदारी में बिज़नेस शुरू करने के लिहाज़ से भी यह समय उपयुक्त नहीं हैं। अगर किसी जगह कोई निवेश की योजना बना रहे हैं तो पहले किसी बड़े व्यक्ति या विशेषज्ञ से इस बारे में मशवरा ले लें उसके बाद ही कोई कदम उठाएं।
हालाँकि, आप में से जो लोग आयात-निर्यात के क्षेत्रों या बहुराष्ट्रीय कंपनियों में काम कर रहे हैं, उन्हें इस पारगमन से वांछित परिणाम मिलने की प्रबल संभावना है।
इस गोचर के प्रभाव से आपके खर्चे भी थोड़े अनियंत्रित होने की उम्मीद है, इसलिए आपको सलाह दी जाती है कि अपनी आय और खर्चों पर उचित ध्यान अवश्य रखें।
वहीं अगर कन्या राशि के जातकों के निजी जीवन के बारे में बात करें तो, इस समय अवधि के दौरान आपके जीवनसाथी के साथ आपके संबंध तनावपूर्ण रह सकते हैं। इसलिए आपको सलाह दी जाती है कि घर में और जीवन में अगर आप शांति चाहते हों तो किसी भी तरह के वाद-विवाद में ना पड़ें। इस अवधि के दौरान, आप में से कुछ लोगों को उनके प्रेम संबंधों और रोमांस में अस्वीकृति का सामना भी करना पड़ सकता है। इसलिए, जिस व्यक्ति को आप पसंद करते हैं, उसे प्रोपोज़ करने या उससे अपने मन की बात करने के लिए बेहतर समय की प्रतीक्षा करें।
स्वास्थ्य के लिहाज़ से भी आपको सावधान रहने की सलाह दी जाती है, अन्यथा आपको कमर दर्द या पेट दर्द जैसी किसी गंभीर समस्या का सामना करना पड़ जायेगा। स्वास्थ्य से जुड़ी समस्या को दूर रखने के लिए जितना हो सके तली-भुनी चीज़ें खाने से परहेज़ करें और कोई भी भारी वस्तु को उठाने से भी बचें।
इस राशि के विद्यार्थियों के लिए भी यह समय निराशा भरा रहने वाला है। उन्हें इस समय के दौरान पढ़ाई के संदर्भ में अच्छे परिणाम नहीं मिलेंगे।

तुला :- र, त : 

विसा यंत्र साधक आचार्य. श्री. जिनचन्द्रसूरीश्र्वरजी म सा कहते हे तुला राशि के जातकों के लिए कुंभ राशि से मीन राशि में होने वाला सूर्य का यह गोचर उनके छठे घर में होने जा रहा है। छठा घर बीमारी, दुश्मनों, और प्रतिस्पर्धा का प्रतिनिधित्व करता है।
यह गोचर आपको शुभ परिणाम देने वाला साबित होगा और इस गोचर के प्रभाव से आपको किसी लंबे समय से चली आ रही बीमारी से उबरने के लिए उचित शक्ति और उर्जा भी मिलने वाली है। इसके अलावा अपने दुश्मनों को मात देने और किसी कानूनी कार्यवाही में जीत हासिल करने के लिहाज़ से भी यह समय आपके लिए बेहद ही अच्छा साबित होने वाला है।
व्यावसायिक रूप से, इस समय अवधि के दौरान आपके प्रयासों को उचित सराहना मिलेगी, आपके वरिष्ठ अधिकारियों के साथ आपके संबंधों में सुधार होगा जिससे पेशेवर मोर्चे पर आपका विकास होने की प्रबल संभावना है। इस राशि के तहत पैदा हुए व्यवसायी जातकों को ऋण या उधार के रूप में वित्तीय संस्थानों या बैंकों से मदद मिल सकती है, जो उन्हें उनके व्यवसाय का सफलतापूर्वक विस्तार करने में मदद करने वाली साबित होगी। तुला राशि के कुछ जातकों को इस समय के दौरान उनकी उधारी वापिस मिलने के संकेत हैं, साथ ही कुछ लोगों को पहले से किए गए निवेश से भी अच्छा लाभ मिलने की संभावना है।
इसके अलावा, तुला राशि के प्रतियोगी परीक्षा की तैयारी कर रहे छात्रों को सूर्य के इस गोचर के दौरान अपने प्रयासों के लिए वांछित सफलता मिलने की संभावना है।
व्यक्तिगत लिहाज़ से बात करें तो, किसी नए रिश्ते के लिए यह समय शुभ साबित होगा। इसके साथ ही पुराने संबंधों में प्यार, समझ, और सौहार्द बना रहने वाला है। शादीशुदा जातकों के लिए भी यह समय अच्छा रहने वाला है क्योंकि इस दौरान उन्हें अपने पार्टनर का पूरा प्यार, साथ और समझ सभी मिलेगा।
तो कुल मिलाकर देखा जाये तो तुला राशि के जातकों के लिए सूर्य का यह गोचर आपकी सभी इच्छाओं को पूरा करने और आपको खुशी प्रदान करने के लिए उचित जोश, उत्साह और ऊर्जा से भरा शुभ समय साबित होने वाला है।

वृश्चिक :- न, य :

सूर्य का गोचर और वृश्चिक राशि

तपागच्छाचार्य आचार्य. श्री. जिनचन्द्रसूरीश्र्वरजी म सा कहते हे वृश्चिक मंगल की राशि होने के कारण सूर्य की मित्र राशि मानी गयी है, ऐसे में सूर्य अपने इस गोचर के दौरान वृश्चिक राशि के पांचवें घर में प्रवेश कर जायेगा। पांचवा घर बुद्धि, विचारों, प्रेम और रोमांस का प्रतिनिधित्व करता है।
पेशेवर रूप से ये समय आपके लिए अच्छा साबित होगा क्योंकि, इस दौरान आप अपने विचारों को पूरे अधिकार और सूक्ष्मता के साथ कार्यान्वित करने में सफल रहेंगे। इसके परिणामस्वरूप आपको आपके कार्यक्षेत्र में आगे बढ़ने का भी मौका मिलेगा। इसके अलावा इस समय अवधि में आपके संचार और प्रेसेंटेशन देने के कौशल में सुधार होगा, आप इस अवधि के दौरान समस्याओं और दबावों को बहुत दृढ़ निश्चय के साथ संभाल पाएंगे, जिससे आपको अपने सहयोगियों और वरिष्ठ प्रबंधन के बीच अपनी पहचान बनाने में सफ़लता मिलेगी। हालाँकि, सरकारी क्षेत्रों में काम करने वाले कुछ तुला राशि के जातकों को इस पारगमन के दौरान अपनी नौकरी में अचानक स्थानांतरण या बदलाव का सामना करना पड़ सकता है। इस राशि के व्यापार से जुड़े जातकों को भी इस समय के दौरान थोड़ी निराशा या विफलता का सामना करना पड़ सकता है। क्योंकि इस समय के दौरान आपको अपने बिज़नस में मनचाहा परिणाम नहीं मिल पायेगा। इस अवधि के दौरान कुछ अप्रत्याशित या अवांछित व्यय आपकी योजनाओं को अस्थिर कर सकते हैं।
हालांकि, रचनात्मक क्षेत्रों से जुड़े संघर्षरत कलाकारों या व्यक्तियों के लिए यह एक अच्छा समय साबित होगा, क्योंकि उन्हें इस पारगमन के दौरान उचित या उनकी मनचाही पहचान मिल सकती है।
वहीं अगर आपके व्यक्तिगत मोर्चे की बात करें तो इस दौरान आपके पिता का स्वास्थ्य और उनकी प्रगति दोनों ही इस समय नाज़ुक बने रहेंगे जिससे आपके घर का माहौल थोड़ा तनावपूर्ण रहने की आशंका है। हालाँकि अगर आप शादीशुदा हैं, तो आपके बच्चों की प्रगति आपको खुश करने का एक बड़ा कारण बनेगी, लेकिन आपके जीवनसाथी के साथ आपके रिश्ते में गुस्से और अहंकार की वजह से थोड़ी खटास आने की आशंका है। इसलिए आपको सलाह दी जाती है कि अपने पार्टनर के साथ किसी भी तरह की लड़ाई से बचें।
प्यार के लिहाज़ से, यह समय अपनी भावनाओं को उस व्यक्ति के सामने व्यक्त करने के लिए शुभ साबित हो सकता है जिससे आप प्यार करते हैं। इस समय वो आपकी भावनाओं को समझेंगे और आपके प्रस्ताव को भी स्वीकारा जा सकता है।
स्वास्थ्य के लिहाज़ से, सलाह यही दी जाती है कि जितना हो सके हल्का भोजन करें और जितना हो सके पानी पियें, क्योंकि इस समय के दौरान आपको अपच, गैस्ट्रिक और अम्लीय मुद्दों से जुड़ी कुछ समस्याएं परेशान कर सकती हैं।

धनु :- भ, ध,फ :

प्रवचनकार आचार्य. श्री. जिनचन्द्रसूरीश्र्वरजी म सा कहते हे धनु राशि के जातकों के लिए सूर्य का यह गोचर उनके चौथे घर में होने जा रहा है। चौथा घर सुख-सुविधाओं, आराम, घर और माता का प्रतिनिधित्व करता है।
व्यक्तिगत मोर्चे पर, आपकी माँ के लिहाज़ से यह गोचर आपके लिए शुभ नहीं रहने वाला है, ख़ासकर तब अगर आपकी माँ को ब्लडप्रेशर, कोलेस्ट्रोल या दिल से जुड़ी कोई पुरानी समस्या है। इस गोचर के दौरान आप लोगों पर हावी होने की कोशिश कर सकते हैं, या स्व धर्मी हो सकते हैं, या फिर बेवजह ही आप सारा घर सिर पर उठाने का भी प्रयत्न कर सकते हैं, इन सभी हालातों में आपके घर की शांति भंग होने की पूरी आशंका है। साथ ही इससे आपके और आपके परिवार के लोगों के बीच मनमुटाव की स्थिति भी खड़ी हो सकती है। ऐसे में अगर आप भी अपने घर में सुख-शांति चाहते हैं तो अपने इस रवैये पर आपको काम करने की बेहद ज़रूरत है।
प्यार से जुड़े मामलों में भी इस वक़्त आपको बेहद सावधानी बरतने की सलाह दी जाती है। अगर आप किसी से अपने मन की भावना शेयर करने के बारे में सोच रहे हैं तो अभी रुकें क्योंकि, यह समय आपके लिए ज्यादा उपयुक्त नहीं है, ऐसे में, आपको इस दौरान मनचाहा परिणाम नहीं मिल सकेगा। शादीशुदा जातकों के लिए भी यह समय कुछ ख़ास अच्छा नहीं कहा जा सकता है क्योंकि इस दौरान आप अपने पार्टनर से छोटे-छोटे मुद्दों पर लड़ाई कर सकते हैं। हालाँकि अगर छात्र अपनी पढ़ाई में निरंतर प्रयास करते हैं तो उन्हें इस गोचर का शुभ फल प्राप्त हो सकता है।
व्यावसायिक रूप से, जैसा कि सूर्य अपनी “दिगबल” स्थिति से विपरीत दिशा में बैठा है, जो इसे कमजोर बनाता है, यह इस बात को इंगित करता है कि इस वक़्त आपको वरिष्ठों और अधीनस्थों से बात करते समय अपने शब्दों का चयन बहुत हो सोच समझकर करना होगा अन्यथा किसी बात का गलत अर्थ निकाला जा सकता है जिससे कोई बड़ी ग़लतफ़हमी पैदा हो सकती है और फिर इससे आपकी छवि भी ख़राब होने की आशंका है। इस वक़्त काम का बोझ भी आप पर थोड़ा अधिक रहने वाला है जिससे आपके मानसिक तनाव या चिंता में बढ़ोतरी होने की उम्मीद है। इस गोचर के दौरान अप्रत्याशित यात्राएं आपकी परेशानियाँ बढ़ाने का काम कर सकती हैं।
इस राशि के व्यापारी जातकों को सलाह यह दी जाती है कि, निवेश से जुड़ा कोई भी कदम बेहद ही सावधानी से उठाएं, इसके अलावा भूमि और संपत्ति से संबंधित मामलों में आपको कुछ समय लग सकता है। स्वास्थ्य के लिहाज़ से बात करें तो तनाव और मानसिक चिंताएँ आपको इस अवधि में कमजोर और सुस्त महसूस करा सकती हैं, इसलिए, जितना हो सके आशावादी रहें और इस गोचर के दौरान सही मात्रा में नींद लें।

मकर :- ख, ज :

मकर राशि पर सूर्य का प्रभाव

तंत्राचार्य आचार्य. श्री. जिनचन्द्रसूरीश्र्वरजी म सा कहते हे मकर राशि के जातकों के लिए, सूर्य, कुंभ राशि से मीन राशि के लिए अपने इस राशि परिवर्तन के दौरान अपने प्रयासों, साहस और भाई-बहनों के घर के माध्यम से गोचर करेगा।
पेशेवर रूप से, मकर राशि के लिए यह समय शुभ साबित होगा क्योंकि इस दौरान उन्हें अपने पेशेवर जीवन में बढ़त देखने को मिल सकती है। इस राशि के कुछ जातकों को इस वक़्त पदोन्नति या अपने वेतन में वृद्धि का सुख भी मिल सकता है। यह आपके लिए खुशी, प्रगति और समृद्धि से भरा हुआ समय साबित होगा, क्योंकि इस दौरान आपके प्रयासों के आपको सकारात्मक परिणाम प्राप्त होने की संभावना है। इस राशि के व्यापारी जातकों को भी इस दौरान लाभदायक सौदों और समझौतों की सौगात मिलने की संभावना है। सूर्य की यह स्थिति आपको सरासर ताकत और ऊर्जा प्रदान करने वाली साबित होगी, जो आपको अपने दुश्मनों से निपटने में मददगार साबित होगी। इस अवधि के दौरान की गई कोई भी यात्रा आपको सकारात्मक परिणाम और पर्याप्त लाभ प्रदान करेगी।
व्यक्तिगत मोर्चे पर, आप इस समय अपने पार्टनर के साथ क्वालिटी टाइम बिताने में कामयाब रहने वाले हैं, जिससे आप दोनों के बीच प्यार बढ़ेगा और आपके रिश्ते को मजबूती मिलेगी। आपके रिश्तेदार, परिवार के सदस्य परिवार को साथ रखने के आपके प्रयासों की सराहना करेंगे और आपको उचित सम्मान भी देंगे। हालाँकि आपके भाई-बहनों को उनके जीवन में इस गोचर के प्रभाव से कुछ चुनौतियों का सामना करना पड़ सकता है, इसलिए जितना हो सके आप उनका हौसला बनाये रखने के लिए उनके साथ खड़े रहे।
स्वास्थ्य के लिहाज से, यह कोई नई एक्सरसाइज अपने जीवन में शुरू करने के लिए और कोई नया डाइट प्लान आजमाने के लिए एक बेहतरीन समय साबित हो सकता है, क्योंकि ऐसा करने से आपको आपकी फिटनेस को बढ़ाने में मदद मिलेगी। यानि कि कुल मिलाकर देखा जाये तो सूर्य के इस गोचर के दौरान आपका स्वास्थ्य अच्छा रहने की संभावना है। आगे के अध्ययन के लिए विदेश जाने के इच्छुक मकर राशि के छात्रों को भी इस दौरान वांछित परिणाम मिलने की संभावना है।

कुंभ :- ग, स, श, ष :

प्रतिष्ठाचार्य आचार्य. श्री. जिनचन्द्रसूरीश्र्वरजी म सा कहते हेसूर्य, जो कि वैवाहिक संबंधों के सातवें घर को नियंत्रित करता है, वो कुंभ राशि के जातकों के लिए उनके व्यवसाय की भागीदारी और व्यवसाय संचित धन, परिवार और भाषण के आपके दूसरे घर के माध्यम से गोचर करेगा।
इस पारगमन के दौरान, आपको अपने स्वभाव और संचार पर नज़र रखनी पड़ सकती है, क्योंकि आपका ये स्वाभाव घर में आपके परिवार के लोगों के साथ या दोस्तों के साथ, लड़ाई की वजह बन सकता है।
कुंभ राशि के जो जातक कार्यरत हैं उन्हें इस दौरान कार्यक्षेत्र में कुछ बदलाव या स्थानांतरण का सामना करना पड़ सकता है। इसके अलावा इस राशि के जो जातक साझेदारी में व्यवसाय करते हैं, इस दौरान उनका उनके पार्टनर से कुछ मतभेद होने की आशंका है। हालाँकि आपके व्यापार में यह सब ना हो इसके लिए इस अवधि के दौरान अपने साथी के साथ जितना हो सके पारदर्शिता और उचित संचार बनाए रखने का सुझाव दिया जाता है। इसके अलावा किसी भी तरह के निवेश के लिए भी इस समय को उचित नहीं माना जा रहा है, हालाँकि अगर निवेश करना ही है तो किसी वित्तीय विशेषज्ञों से सहायता या सलाह लेने के बाद ही आपको इस दिशा में कोई कदम उठाना चाहिए। हालाँकि, आपको संपत्ति या अचल संपत्ति, विशेष रूप से पैतृक संपत्ति से संबंधित मामलों में कुछ अचानक लाभ का अनुभव हो सकता है।
इसके अलावा बात करें अगर व्यक्तिगत जीवन के लिहाज़ से तो, सातवें घर का स्वामी स्वामी, सूर्य, जो रिश्ते को नियंत्रित करता है, वो आपके परिवार के दूसरे घर में स्थित है, जो इस बात को इंगित करता है कि इस अवधि के दौरान कुम्भ राशि के सिंगल जातक इस समय अवधि में किसी ख़ास इंसान से मिलने की संभावना रखते हैं। इस पारगमन के दौरान कमिटेड कपल अपने प्रियजन के साथ किसी एडवेंचर ट्रिप पर जा सकते हैं। हालाँकि, इस समय के दौरान विवाहितों के जीवनसाथी के स्वास्थ्य में गिरावट देखी जा सकती है और उन्हें अपनी फिटनेस और स्वास्थ्य को बेहतर बनाये रखने के लिए अपनी बचत का एक बड़ा हिस्सा उस पर खर्च भी करना पड़ सकता है।
स्वास्थ्य के लिहाज़ से, भी आपको यह गोचर ज्यादा अनुकूल परिणाम नहीं देगा क्योंकि इस दौरान आपको आपकी आँख और दाँतों से जुड़ी कोई समस्या परेशान कर सकती है। ऐसे में दाँतों को स्वस्थ और मज़बूत बनाये रखने के लिए अपने मुंह की अच्छी सफाई का विशेष ध्यान दें, और आँखों पर ज्यादा जोर न पड़े इसके लिए मोबाइल फोन और टेलीविजन केवल एक निर्धारित समय के लिए ही देखें।

मीन :- द, च : 

उपसर्ग विजेता आचार्य. श्री. जिनचन्द्रसूरीश्र्वरजी म सा कहते हे सूर्य का यह गोचर मीन राशि में ही होने वाला है। ऐसे में इस गोचर के दौरान सूर्य आपकी लग्न राशि के पहले घर में गोचर करेगा, जिसे स्वयं, व्यक्तित्व, स्वभाव, नाम, प्रसिद्धि और स्वास्थ्य का घर माना जाता है। सूर्य के इस गोचर के परिणामस्वरूप मीन राशि के जातकों के स्वास्थ्य में गिरावट आने की आशंका है। इस गोचर के दौरान उन्हें सिरदर्द, आंखों की रोशनी, सर्दी और खांसी से जुड़ी समस्याओं का बार-बार सामना करना पड़ सकता है। इसके अलावा मीन राशि के कुछ जातकों को रक्त से संबंधित कुछ मामूली संक्रमणों का सामना भी करना पड़ सकता है। इसलिए इस दौरान आपको अपने स्वास्थ्य का विशेष ध्यान रखने की सलाह दी जाती है, और अगर ज़रूरत पड़े तो किसी भी समस्या को टालें नहीं तुरंत ही डॉक्टर का परामर्श लें।
अब बात करें अगर मीन राशि के जातकों के पेशेवर जीवन में पड़ने वाले प्रभाव के बारे में तो, जो जातक नौकरी कर रहे हैं वो इस दौरान अपने कार्यक्षेत्र पर थकान और सुस्ती महसूस कर सकते हैं, जिससे आपको काम में मन लगाने या ध्यान केंद्रित करने में थोड़ी तकलीफ़ उठानी पड़ सकती है। जिसके चलते कार्यक्षेत्र पर आप अपनी क्षमता और कौशलता के अनुसार काम नहीं कर सकेंगे, और इसका सीधा असर आपकी प्रतिष्ठा पर पड़ेगा। इसलिए बारीकी से हर उस पहलु पर ध्यान दें जिसकी वजह से ऐसा होने की उम्मीद है और उन कारणों पर उचित काम करें। ऐसा करने से आपके प्रदर्शन को अच्छा बनाये रखने में आपको मदद मिलेगी। इसके अलावा, इस समय अवधि में आपके दुश्मन आप से आगे निकलने के लिए आपकी छवि को खराब करने की योजना बना सकते हैं, इसलिए जितना हो सके सावधान और सतर्क रहें। हालांकि, अगर आप किसी पर मुकदमा करना चाहते हैं या किसी के साथ कानूनी लड़ाई शुरू करना चाहते हैं, तो इसके लिए यह समय अच्छा साबित हो सकता है।
सूर्य के इस गोचर के प्रभाव से मीन राशि के व्यवसायी जातकों को भी अनुकूल परिणाम नहीं मिलेगा और साथ ही इस समय आप आपके सहयोगियों या आपके अधीन काम करने वाले लोगों से सहयोग की कमी का अनुभव भी कर सकते हैं। इसके अलावा, जब बात वित्त की आती है, तो जल्दबाजी में निर्णय लेने से बचें, अन्यथा, आपको भारी नुकसान उठाना पड़ सकता है।
व्यक्तिगत मोर्चे पर बात करें तो, इस समय आपको अपने क्रोध और चिडचिडापन पर काबू रखना बेहद ज़रूरी है, अन्यथा इसके चलते आप और आपके परिवार के लोगों में लड़ाई होने की आशंका है। उनके साथ व्यवहार या बात करते हुए अपनी शांति और संयम बनाए रखने की कोशिश करें। छात्रों को सलाह दी जाती है कि पढ़ाई से थोड़ा ब्रेक लें और अपना समय किसी शौक या ऐसी गतिविधियों को करने में लगाने की कोशिश करें जिसमें आपको आनंद आता हो, क्योंकि ऐसा करने से आपकी रचनात्मकता और एकाग्रता को बढ़ावा मिलेगा।
सूर्य का गोचर by jain muni
जिन शीशू अजित
_देवी स्वप्न द्वारा निर्मित_ ८४ जिनालय समलंकृत
 सावत्थीतीर्थ धाम
_बावला, अहमदाबाद_
02714232612
09824010332
आजीवन गुरुचरणसेवी
मुनी अजितचन्द्र विजय
Whatsapp 09824010332
Spread the love

Leave a Reply